Latest News

Comments system

[blogger][disqus][facebook]

Monday, 28 August 2017

परिवहन बस मे पुलिस ने छापा मारकर जुआ खेलते सात ड्राइवर किये गिरफ्तार, मौके से 10 ,939 रुपये किये बरामद


परिवहन बस मे पुलिस ने छापा मारकर जुआ खेलते सात  ड्राइवर किये गिरफ्तार, मौके से 10 ,939 रुपये किये बरामद 


कानपुर। अति व्यस्त रहने वाले नौबस्ता चौराहे पर फजलगंज डिपो की बस पर खुले आम जुआ चल रहा था। यह जुआ बीते कई माह से खेला जा रहा था। सोमवार को पुलिस ने बस को चारो तरफ से घेरा बंदी कर सात संविदा बस चालकों को गिरफ्तार किया हैl इनके पास से पुलिस ने ताश की गड्डी और 10 ,939 रुपये बरामद किये हैं।
नौबस्ता थाना क्षेत्र स्थित नौबस्ता बाईपास में पुलिस ने घेरा बंदी कर बस के अन्दर से सात जुआरियों को गिरफ्तार किया है। फजलगंज डिपो की यह बसें नौबस्ता से घाटमपुर और जहानाबाद को जाती हैं। यहीं से कुछ बसें हमीरपुर के लिए भी जाती हैंl आरोप है कि बस चालक मिलकर बीते कई माह से यहां जुआ खेल रहे थे। यहां पर बड़े-बड़े दांव लगते थे। जुए की वजह से यह बस चालक अपने काम में भी आना-कानी करते थे।
परिवहन बस से राजेश सैनी, महेश, अजय, महेंद्र, नरेश, ओम प्रकाश, राजनारायण को को गिरफ्तार किया है। जबकि जिस बस में जुआ पकड़ा गया है उसके ड्राइवर वीरेंदर मौके पर नही थेl इस बस स्टैंड से कुछ ही दूरी पर पान मसाला की शॉप चलाने वाले राज बहादुर के मुताबिक यहाँ पर फजलगंज डिपो की बसें खड़ी होती हैं। इस रूट में सभी संविदा कर्मी चालक हैं, ये लोग यहां बीते डेढ़ माह से जुआ खेल रहे हैं। यदि इस जुए का कोई विरोध करता था तो यह सभी ड्राइवर और कंडेक्टर उससे झगड़ा करने पर उतारू हो जाते थेl इतना ही नही एक हफ्ते पहले जुए में किसी बात को लेकर झगडा हो गया था तो दो ड्राइवरों आपस में जमकर मारपीट की थीl
लोगों का आरोप है कि ये यहां बैठकर शराब भी पीते थे यदि सवारियां इनसे जल्दी चलने के लिए कहती थी तो यह लोग उनसे बदसलूकी भी करते थे। इनका क्षेत्र में आतंक था सोमवार को पुलिस को पता नही क्या समझ में आया और सभी को जुआ खेलते हुए दबोच लियाl

वहीं पकडे गए संविदा बस चालक राजेश सैनी का कहना है कि हम लोग जुआ नही खेल रहे थे। बस में टाइम पास करने के लिए लकड़ी खेल रहे थे, तभी पुलिस ने आ कर हम सभी को पकड़ लिया। हमारे पास से जो पैसा मिला है वो हमारा पैसा है और कुछ पैसा टिकट का है जो सवारियों से लिया गया है। जिसका हमें शाम को ऑफिस में हिसाब देना पड़ता है।

No comments:

Post a Comment