Latest News

Comments system

[blogger][disqus][facebook]

Sunday, 3 September 2017

सत्य बहुमत पार्टी उ0प्र0 ने फूलबाग स्थित गांधी प्रतिमा से डीएम कार्यालय, कचहरी परिसर तक मौन जुलूस गंूगा मार्च निकाला


सरकार बिना राजनीतिक दबाव, बिना पूजीपतियों के दबाव में आम जनता के हित में अच्छे कदम उठाए- पूनम चन्द्रा


कानपुर नगर 03-0902017 (राजेंद्र केशरवानी ) रविवार को सत्य बहुमत पार्टी उ0प्र0 ने फूलबाग स्थित गांधी प्रतिमा से डीएम कार्यालय, कचहरी परिसर तक मौन जुलूस गंूगा मार्च निकाला, जिसका नेत्तव राष्ट्रीय संगठक उमेश कुमार श्रीवास्तव प्रदेश अध्यक्षा पूनम चन्द्रा ने किया।
        डीएम कार्यालय पहुंच कर ज्ञापन सौंपा गया। इस अवसर पर डा0 अनवेश ने कहा कि सच्चा प्रजातंत्र और बहुमत उसे कहते है, जिसमें किसी भी राजनीति दल को अन्य दलों की तुलना में वोट अधिक लेकर सरकार बनाने का अधिकार मिले ना कि अधिक सदसय लेकर। विनय त्रिपाठी ने कहा कि जेसे सदस्यों का चुनाव एक ही चुनाव चिन्ह पर वोटो के बहुमत से होता है वैसे ही जिस भी दल या केवल एक चुनाव चिन्ह पर मतदाता अन्य दलों की तुलना में वोट अधिक दे वही राजनीतिक दल सरकार बनाने का अधिकारी हो। लखीमपुर से आयी रेखा पटेल ने कहा कि जनता मंहगाई, नोटबंदी, बेरोजगारी, जीएसटी, सडक, सुरक्ष, शिक्षा जैसे मूलभूत सुविधाओं के लिए तरसती है, लेकिन सरकार धर्म, जाति, गाय, गोबर के नाम पर लोगों को बहकाने का काम कर रही है। अमित त्रिपाठी ने कहा कि टैक्स का दर जो लगाया गया वो अत्यधिक है। 12 प्रतिशत से अधिक कर नही होना चाहिये और छोटे व्यापारियों को एक करोड तक छूट मिलनी चाहिये। पार्टी के पदेश अध्यक्षा पूनम चन्द्रा ने बकरीद की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि भ्रष्ट व्यवस्था का अर्थ है सांठ-गांठ, गठबंधन, जोड तोड, पैसे का खेल, सरकार, अधिकारी, ठेकेदार, पूंजीपति का होड। कहा सत्य बहुमत का अर्थ है सरकार बिना राजनीतिक दबाव, बिना पूजीपतियों के दबाव में आम जनता के हित में अच्छे कदम उठाये। जो बजट सरकार द्वारा जारी हो बिना व्यवधान के जनता तक पहुंचे, कहा सरकार शिक्षा, सुरक्षा, भ्रष्टाचार के नाम पर मौन है इसलिए जनता को जागृत करने के लिए गंूगा मार्च निकाला गया है। कहा यदि उनकी पार्टी सरकार बनती है तो न्यायसंगत कर दरों में सुधार कर कालाधन को 6 माह में समाप्त कर दिया जायेगा। कहा वह अंग्रेजी के खिलाफ नही है लेकिन देश की मातृभाषा व प्रांतीय भाषाओं में शिक्षा का प्रबंध किया जायेगा व नशा मुक्त भारत का सपना साकार होगा। साथ ही अंग्रेजों की गुलामी की मानसिकता वाले सभी कानूनों को समाप्त कर दिया जायेगा व देश तथा समाज के हित तमें नई व्यवस्था बनायी जायेगी।  उमेश ने कहा कि सरकार बनाने की प्रक्रिया ही दोष युक्त है। सरकार उसी दल का नेता बना पाएगा जो कुल विजयी सदस्यों का 50 से अधिक बहुमत जुटा लेगा। कहा नोटा का इस्तेमाल होने का अर्थ है कि वर्तमान सदस्यों के बहुमत से सरकार बनाने की व्यवस्था भ्रष्ट व्यवस्था है और हमस ब इसका विरोध करते है। गूंगा मार्च में डा0 अनवेश सिंह, रेखा पटेल, अमित त्रिपाठी, नागेन्द्र मिश्रा, दीपक तिवारी, विनय त्रिपाठी, सुमन यादव, वीरेन्द्र पाल, बाबूराम पाल, महेन्द्र दीक्षित, दिनेश कुमार, पवन कटियार, शारदा देवी, संदीप, वन्दना कुश्वाहा आदि पदाधिकारी उपस्थित रहे।

No comments:

Post a Comment