Latest News

Comments system

[blogger][disqus][facebook]

Tuesday, 10 October 2017

थाने पहुंचे पीडित से कहा गया पहले करो डायल 100


संवाददाता : रजत सिंह
कार्यवाही के बजाये पुलिस ने दिया 100 डायल को तवज्जो
कानपुर नगर, जानलेवा हमले के बाद किसी प्रकार बचकर भागा व्यक्ति जब थाना घाटमपुर पहुंचा तो वहां पुलिस ने उसकी मदद करने की बचाय उससे कहा कि पहले 100 नं0 डायल करो फिर आगे की कार्यवाही की जायेगी। पीडित ने 100नं0 डायल किया, पुलिस थाने पहुंची और पीडित को लेकर घटना स्थल पहुंची जहां घटना सत्य पायी गयी। शिकायत पत्र लेकर 100 नं0 पुलिस वापस लौट गयी तथा कहा आप अपना इलाज कराओ लेकिन थाना पुलिस ने पीडित को मेडिकल के लिए नही भेजा और शाम तक टरकाते रहे उल्टा थाने में तैनात सिपाही अमित त्रिपाठी जबरन समझौते का दबाव बनाने लगा।कृष्णा नगर निवासी मधुसूदन यादव ने बताया कि वह एक समाचारपत्र में कार्यरत है और अपने कार्यालय के लिए मूसानगर रोड स्थित एक दुकान राम किशोर निवासी ग्राम शेरपुर से किराये पर ली जिसकी पगडी 1 लाख रू0 तय हुई। बताया कि दुकान जर्जर होने के कारण उसमें उन्होने 15 हजार रू0 भी लगाये तथा 15 हजार व पगडी की रकम के 50 हजार कुल 65 हजार रू0 राम किशोर को दिये और लिखा-पढी कराने को कहा लेकिन उन्होने कहा कि जब बकाया 50 हजार और दोगे तब एग्रीमेंट कर दिया जायेगा। अब जब रामकिशोर से एग्रीमेंट कराने को कहा जाता है तो वह टाला-मटोली करता है कभी शाम को तो कभी कल पर टालता है। बताया कि जब इसकी शिकायत थाना घाटमपुर में की गयी तो रामकिशोर अपने साथियो के साथ अचानक पीडित पर हमला कर दिया। किसी प्रकार जान बचाकर वह थाने पहुंचा जहां उनसे कहा गया कि पहले घटना की सूचना 100 नं0 पर दो फिर कार्यवाही की जायेगी। 100 नं0 पुलिस आने के बाद वह घटना स्थल पर गये जहां घटना सही पाई गयी। 100 नं0 पुलिस ने शिकायतपत्र लेकर अस्पताल इलाज कराने को जाने के लिए कहा लेकिन थाना घाटमपुर पुलिस ने पीडित को शाम तक थाने में बिठाये रखा लेकिन मेडिकल के लिए नही भेजा वहीं थाने में तैनात सिपाही अमित त्रिपाठी द्वारा जबरन समझौते का दबाव बनाया जाने लगा। जब पीडित ने मना किया तो सिपाही ने गाली बक कर उसे थाने से भगा दिया और कहा कि दुकान खाली कर दो। पीडित ने कहा कि उसका पैसा वापस करवा दो तभी दुकान खाली करेगा लेकिन सिपाही ने कहा दुकान तो खाली ही करनी पडेगी।। बताया कि जब जिलाधिकारी से शिकायत की गयी तो क्षेत्राधिकारी के ड्राइवर नित्येन्द्र कुमार ने उन्हे धमकाया। कहा अब उसे फसाने का षडयंत्र रचा जा रहा है। यदि उसके साथ कोई घटना होती है या कोई आपराधिक मामला फर्जी दर्ज किया जाता है तो इसकी जिम्मेदार रामकिशोर यादव सिपाही अमित त्रिपाठी तथा क्षेत्राधिकारी के ड्राइवर नित्येन्द्र की होगी।

No comments:

Post a Comment