Latest News

Comments system

[blogger][disqus][facebook]

Tuesday, 31 October 2017

सरदार पटेल की जयन्ती पर पुष्पाजंलि एवं संगोष्ठी सभा का आयोजन

विभिन्न दलो व संगठनो ने किया सरदार पटेल प्रतिमा पर माल्यापर्ण

बर्रा चैक में स्थित प्रतिमा पर माल्यापर्ण करते भाजपाई
संवाददाता : शिवम गुप्ता
कानपुर नगर, उ0प्र0 खादी ग्रामोधोग महासंग, राष्ट्रीय लोक दल, चन्द्रशेखर आजाद जनकल्याण समिति के तत्वाधान में मूलगंज चैराहे स्थित सरदार वल्लभ भाई पटेल जी की प्रतिमा पर माल्यापर्ण कर श्रृद्धाजंली सभा तथा संगोष्ठी का आयोजन किया गया।इस अवसर पर सुरेश गुप्ता ने कहा कि पटेल का बाल्यकाल से ही एक अगोचर सत्य के प्रति गहरा विश्वास था। उन्होने सादगी पूर्ण कठोर जीवन बिताया तथा 1913 को भारत आये पटेल जी बम्बइर्ठ के मुख्य न्यायाधीश पर बेसिल स्काूट से मिलने गये जिन्होने उनका गर्मजोशी से स्वागत किया क्योंकि वह इंग्लैण्ड की विधि परीक्षा में महान सफलता के बारे में जान चुके थे।   कहा कि 1917 में वह गांधी जी से प्रभावित होकर देश के स्वतंत्रा आन्दोलन में कूद पडे। वह दाण्डी यात्रा के पूर्व गिरफ्तार हुए और तीन माह के लिए जेल गये तथा बाद में पुनः 9 माह के लिए जेल भेजे गये। वहीं सर्वेश कुमार पाण्डेय ने कहा कि सरदार पटेल ने देश को आजाद कराने के लिए अपनी विकालत को कुर्बान कर दिया वह उप प्रधानमंत्री व गृह मंत्री बनकर 665 रियासतों को भारत में विलय कराकर अपनी कुशल व दृढ क्षमता व राजनीतिक शक्ति का परिचय दिया। कहा आज के नेता यदि पटेल जी के आदर्शो को अपनाये ता वह देश सभी आन्तरिक व बाहरी समस्याओं से उभर सकता है। इस अवसर पर सुरेश गप्ता, केके पाण्डे, सर्वेश पाण्डेय, श्रीओम द्विवेदी, आनिल सोनकर, भइया लाल, नागेन्द्र सोनकर, ओम प्रकाश गुप्ता, उमेश शुक्ल मो0 जाबिद, श्रीकान्त त्रिपाठी, डीसी कुरील, दिनेश यादव आदि उपस्थित रहे।

No comments:

Post a Comment