Latest News

Comments system

[blogger][disqus][facebook]

Tuesday, 10 October 2017

पीडितों की नही सुनते घाटमपुर थानाध्यक्ष


संवाददाता:नीरज शर्मा
कानपुर नगर, एक तरफ सूबे की योगी सरकार लगातार जनता के हितों को ध्यान में रख कर लायन आॅडर सुधारने में लगी हुइ है तो कानपुर और आस-पास के थानो में पुलिस की कार्य प्रणाली पर सवालिया निशान लगा हुआ हैं आये दिन पुलिस द्वारा पीडित व फरियादियों पर कार्यवाही न करने के समाचार अखबारो में छपते है। एसएसपी, आईजी, डीएम कार्यालयों में फरियादो का आना भी यह साबित करता है कि थाना स्तर पर पुलिस पीडितो की नही सुन रही है।
       इसी क्रम में थाना घाटमपुर के रहने वाले शहीद अहमद भी अपनी शिकायत लेकर थाने पहुचे लेकिन घाटमपुर थानाध्यक्ष ने उनकी एक न सुनी और गांव के दबग अब शहीद अहमद के पीछे पडे है। डर कर शहीद एसएसपी से सुरक्षा की गुहार लगाने पहुंचा। शहीद अहमद ने बताया कि वह सर्देगोपालपुर का रहने वाला है तथा एक खेत को बटाई पर लेकर खेती किसानी करता है। गांव के ही दबंग छोहरी पुत्र सूरजसिंह यादव आये दिन बिना वजह उसे परेशान करते है। शराब के लिए पैसा मांगते है और मना करने पर पीट देते है। बताया कि जब बात बर्दास्त से बाहर हो गयी तब वह थाना घाटमपुर पहुंचे लेकिन थानाध्यक्ष देवेन्द्र दुबे ने उनका प्रार्थनापत्र नही लिया और कई बार उन्हे दौडाया, उल्टा दबंग को पुलिस ने शिकायत की सूचना दे दी, तब से दबंग शिकायतकर्ता को धमका रहा है और जान से मारने की धमकी दे रहा है। पीडित ने बताया कि दबंग अपने साथियो के साथ आया जब वह खेत में काम कर रहा था। उसने पीडित को बुरी तरह मारा और जब उसकी पत्नी बचाने के लिए आई तो उसे भी मारा। बताया कि पास के खेतो में काम कर रहे अन्य लोगो को आता देख वह धमकी देते हुए भाग निकला। कहा कि वह तथा उसका परिवार भयग्रस्त है और अपने को स्वतंत्र महसूस नही कर रहा है। कहा यदि उसके साथ कोई हादसा होता है तो उसकी जिम्मेदारी गांव के ही दबंग छोहरी की ही होगी।

No comments:

Post a Comment