Latest News

Comments system

[blogger][disqus][facebook]

Friday, 8 December 2017

धूल में मिले एनजीटी के आदेश

सडकों पर झाडू लगाने के दौरान पानी का छिडकाव बंद

बिना पानी छिडकाव से झाडू लगने के दौरान सडक से उठती धूल
कानपुर नगर(अमित वर्मा) सरकारी महकमे द्वारा बरती जा रही हर लापरवाही का खामयाजा शहर की जनता को उठाना पड रहा है और जब शहर की आबो हवा दूषित हो चुकी है तो ऐसे में स्वास्थ्य के प्रति यह खिलवाड कहीं लोगों को भारी न पड चो। वातावरण को शुद्ध रखने के लिए एनजीटी ने आदेश दिया था कि सडकों पर धूल को उडने से रोकने के लिए सडको व विशेषरूप से जहां खुदाई हुई है वहां की सडकों पर पानी का छिडकाव कराने के बाद ही झाडू लगवाई जाये साथ ही जगह जगह फेली निर्माण सामग्री को हटवाने का काम किया जाये लेकिन लापरवाही विभाग ने दोनो आदेशो को ढंेगा दिखा दिया। जहां जगह-जगह निर्माण सामग्री के ढेर लगे देखे जा सकते है वहीं सडकों पर पानी नही डाला जा रहा है। उडती धूल राहगीरो और वाहन सवारो को परेशान कर रही है।दो दिन पहले ही हुई हल्की बारिश से भले ही शहर में प्रदूषण की स्थित में कुछ सुधार आया हो लेकिन तेज धूप के बाद एक बार फिर सडकों पर धूल का गुब्बार उठ रहा है। एनजीटी द्वारा पूर्व में आदेश दिये गये थे कि सडको पर पानी का छिडकाव करने के बाद ही झाडू लगायी जाये। शुरूआत में दो-चार दिन तो इन आदेशो को माना गया लेकिन पुनः वही दशा हो गयी। दूसरी ओर सफाई कर्मियों का सडकों पर झाडू लगाने का समय भी बदल गया है। पहले सुबह पांच बजे से सात बजे तक सडकों पर झाडू लगाने व कूडा उठाने का पूरा हो जाता था लेकिन वर्तमान में सुबह 10 बजे तक सडकों पर झाडू ही लगती रहती है ऐसे में राहगीरो को धूल का सामना करना पडता है। नगर निगम सिर्फ कागजी कार्यवाही ही कर रहा है। सडकों पर समय से न तो सफाई हो रही है और न ही सडक किनारे निर्माण सामग्री हटवाई जा रही है। वहीं शहर के कई स्थानों पर सडक किनारे मलबा पडा है जो कई दिनो से नही उठाया गया। शहर में कई खोदी हुई सडकों को अभी तक मोटरेबल भी नही किया गया है जहां वाहनों के आने जाने के कारण दिनभर धूल उडती रहती है जिससे इलाकाई लोग परेशान रहते है। एनजीटी की सख्ती के बाद जल निगम ने खोदी गयी सडकों पर पानी का छिडकाव कराया था लेकिन समय बीतने के साथ फिर यह व्यवस्था भी बंद हो गयी।

कूडे में आग लगाने से नही बाज आ रहे सफाईकर्मी

नगर आयुक्त द्वारा लाख प्रयासो के बाद भी सफाईकर्मी अपनी हरकतों से बाज नही आ रहे है। सडको पर झाडू लगने के बाद एकत्र होने वाला कूडा या जिस स्थान पर ज्यादा मात्रा में कूडा डंप होता है वहां सफाईकर्मी स्वयं ही आल लगा देते है। पूरे शहर में यही हाल है वहीं कई स्थानो पर कूडा न उठने के कारण कुछ अन्य लोगो भी कूडे को आग लगा देते है। नगर निगम कूडे में आग लगाने वालो पर कार्यवाही नही कर पा रहा है और न ही रोक लगाई जा पा रही है। एसएसपी निवासी के दूसरी ओर लाल इमली जाने वाली सडक पर बिना वजह कूडा डंप करने का स्थान बना दिया गया जबकि यह पाॅश इलाका है यहीं नही यहां ग्वाटोली, सूटरगंज, सिविल लाइन से सफाईकर्मी कूडा डाल जाते है जिसकी समय से उठान भी नही होती और कूडे में आग लगा दी जाती है जिसके कारण उठने वाला जहरीला धुंआ आस-पास के निवासियों को हानि पहुंचा रहा है।

No comments:

Post a Comment