Latest News

Comments system

[blogger][disqus][facebook]

Monday, 5 February 2018

प्राइवेट फैक्ट्री मालिक की दबंगई, जरा सी बात पर कम्पनी के आधा सैकड़ा मजदूरों को कर दिया बेरोजगार

प्राइवेट फैक्ट्री मालिक की दबंगई, जरा सी बात पर कम्पनी के आधा सैकड़ा मजदूरों को कर दिया बेरोजगार
- औधोगिक नगरी दादानगर में कॉम्पीटेन्ट स्पोर्ट प्राइवेट लिमिटेड के नाम से है फैक्ट्री
- जरा सी बात पर मालिक ने बुजुर्ग मजदूर को लातों से मारा, हालत गंभीर
- मानवता के नाते पीड़ित की मदद करने आये फैक्ट्री के अन्य आधा सैकड़ा मजदूरों को भी मालिक ने फैक्ट्री से निकाला
- अपने साथ हुये अन्याय और फैक्ट्री मालिक की दबंगई उजागर करने पहुंचे मजदूरों को पुलिस से भी नहीं मिली सहायता
- भाजपा विधायक महेश त्रिवेदी से लेकर श्रमायुक्त कार्यालय तक दौड़ लगा रहे मजदूर नहीं मिल रहा न्याय
- मजदूरों का कहना न्याय न मिलने पर डीएम कार्यालय के बाहर लामबंद होकर देंगे धरना

कानपुर महानगर| (नीरज शर्मा) जहाँ एक ओर देश के प्रधानमंत्री देश की बेरोजगारी हटाने के लिये कौशल विकास योजना के तहत बेरोजगारों को रोजगार बाँट रहे हैं साथ ही विदेशी कंपनियों को इंडिया में व्यापार का न्योता दे रहे हैं जिससे कि देश मे बेरोजगारों की संख्या कम हो सके वहीं इंडिया तो दूर कानपुर महानगर में ही मजिस्ट्रेट बनें एक प्राइवेट फैक्ट्री मालिक ने जरा सी बात पर आधा सैकड़ा गरीब मजदूरों की रोटी छीन ली। या यूं मानें उन्हें एक पल में बेरोजगार कर दिया।प्राप्त जानकारी के अनुसार मामला गोविंदनगर थाना क्षेत्र के अधौगिक नगरी दादा नगर का है। दादा नगर स्थित स्पोर्ट्स लेदर का काम करने वाली कॉम्पीटेन्ट स्पोर्ट प्राइवेट लिमिटेड में काम करने वाले एक बुजुर्ग  मजदूर ने बताया कि वह इस कम्पनी में लगभग दो साल से काम कर रहा था। किसी बात पर नाराज फैक्ट्री मालिक ने फैक्ट्री के अंदर उसको लातों घूंसों मारा और फैक्ट्री से भाग दिया। जिससे उसको गम्भीर चोटें आईं। अपने साथी की निर्ममता से पिटाई देख फैक्ट्री के अन्य मजदूर सहम गये। लेकिन दबंग फैक्ट्री मालिक की दबंगई का शिकार हुये और पैसे से कमजोर उस पीड़ित बुजुर्ग मजदूर के अन्य मजदूर साथियों ने आपस में चंदा करके उसका प्राइवेट अस्पताल में इलाज करवाया।
दबंग फैक्ट्री मालिक को जैसे ही इसकी भनक लगी कि उसके द्वारा लात मारकर फैक्ट्री से निकाले गये मजदूर की उसके ही फैक्ट्री में काम कर रहे अन्य मजदूरों ने मदद की है दबंग फैक्ट्री मालिक मजिस्ट्रेट बन गया। और लगभग 40 लोगों को बिना मासिक मेहनताना दिये दुत्कारकर भगा दिया। अपने साथ ज्यादती होती देख निकाले गये मजदूरों में कुछ महिला मजदूरों ने न्याय के लिये अधिकारियों की चौखट पर जाने की बात कही तो दबंग फैक्ट्री मालिक ने तुगलकी फरमान सुनाते हुये कहा जहाँ जाना हो जाओ हम अपनी फैक्ट्री में तुम जैसे वफादार कुत्ते नहीं रखना चाहते। और कहीं भी जाना मेरा कोई कुछ नहीं कर पायेगा।फैक्ट्री मालिक द्वारा दी गई ऐसी धमकी पर पीड़ित सभी लामबंद मजदूर सबसे पहले क्षेत्रीय चौकी गये। किस्मत के मारे बेरोजगार हुये मजदूर चौकी पुलिस को अपनी बात बताते इससे पहले ही फैक्ट्री मालिक द्वारा चढ़ाई जाने वाली चढ़ौती में दबे चौकी इंचार्ज ने दुत्कार कर भगा दिया। चौकी इंचार्ज का कहना था ज्यादा नेतागीरी करोगे तो फर्जी मुकदमें लगा लगाकर जेल की हवा खिलवा देंगे। मित्र पुलिस की दुत्कार खाये गरीब मजदूर न्याय की आस में किदवई नगर विधानसभा से भाजपा विधायक महेश त्रिवेदी के पास पहुँचे। विधायक द्वारा उनको कुछ दिन रुकने के लिये बोला गया। जानकार बताते हैं कि दरअसल भाजपा विधायक के यहां कोई शादी समारोह है इस लिये मजदूरों को ऐसा आश्वासन दिया गया था।वहीं रोज कमाने खाने की चिंता में डूबे मजदूरों को किसी ने जानकारी दी कि तुम लोग लेबर हो और तुम लोगों का जिम्मा उठाये विभाग (लेबर कमिश्नर) को अपनी बात बताओ।जानकारी पाये पीड़ित मजदूर अपनी फरियाद लेकर श्रमायुक्त कार्यालय पहुँचे। लेकिन श्रमायुक्त से मुलाकात नहीं हो पाई।दुबारा श्रमायुक्त कार्यालय पहुँचे इन मजदूरों ने आरोप लगाया कि जैसे ही हम लोग कार्यालय पहुँचे वहाँ पर मौजूद कर्मचारियों ने उनसे मारपीट कर दी। क्योंकि महिलाओं और बच्चों से फैक्ट्री में काम करवाने वाले दबंग फैक्ट्री मालिक का यहां भी पौवा था। और वहाँ उनकी एक भी नहीं सुनीं गई। न्याय की आस में भटक रहे इन मजदूरों से बात करके यह लगा कि सरकार किसी की भी हो सरकारी मशीनरी और खाकी का ढर्रा वही।मजदूरों का कहना था कि हम लोग बेरोजगार हो गये, हमारी गलती सिर्फ इतनी थी फैक्ट्री मालिक द्वारा बेरहमी से पीटे गये अपने साथी के इलाज के लिये हम लोगों ने चंदा दे दिया। इस पर आज फैक्ट्री मालिक ने एक महीने से ऊपर का बेतन दिये बिना हम सबको फैक्ट्री से निकाल दिया है। वहीं मजदूरों ने ये भी कहा कि अगर न्याय न मिला तो डीएम कार्यालय पर लामबंद होकर धरने पर बैठ जायेंगे।

No comments:

Post a Comment