Latest News

Comments system

[blogger][disqus][facebook]

Thursday, 13 February 2020

दिल्ली के नये विधायकों में आधे विधायक गम्भीर अपराध में शामिल 43 पर दर्ज हैं दुष्कर्म और हत्या के प्रयास के मामले




नई दिल्ली - दिल्ली में हुये विधानसभा चुनाव में लोगों ने भले ही अपनी सुख-सुविधाओं को देखते हुये वोट किया हो लेकिन मत देकर उन्होंने आपराधिक मामलों के आरोपियों को विधानसभा पहुंचा दिया है। दिल्ली में चुने गये 70 नये विधायकों में 37 यानी करीब 53 फीसद विधायकों ने खुद पर गंभीर मामलों के अपराध घोषित किये हैं। इनमें कई पर बलात्कार के आरोप, हत्या की कोशिश और महिलाओं के खिलाफ अपराध के आरोप हैं। इन्हीं 70 विधायकों में 43 विधायकों पर आपराधिक मामले दर्ज हैं।

यह आंकड़े चुनाव पर दिल्ली इलेक्शन वाच और एसोसिएशन डेमोक्रेटिक रिफॉर्म (एडीआर) की ओर से चुनाव परिणाम जारी होने के एक दिन बाद बुधवार को जारी किये गये हैं। जानकारी का आंकड़ा चुनाव आयोग में उम्मीदवारों की ओर से जमा किये गये हलफनामे से लिया गया है। जानकारी के मुताबिक 2015 में 70 में से सिर्फ 24 विधायकों ने ही आपराधिक मामलों की बात स्वीकारी थी।

2015 में जहाँ गंभीर अपराधों के साथ 20 फीसद विधायक ही सामने आये थे, वहीं इस बार 2020 में यह आंकड़ा बढ़कर 53 फीसद पर पहुंच गया है। पार्टी के आधार पर देखें तो आम आदमी पार्टी के 2015 में 3 फीसद विधायकों पर आपराधिक मामले थे तो वहीं 2020 में ये मामले 61 फीसद हैं। 2015 में भाजपा के जहां 33 फीसद विधायक आपराधिक मामलों के थे वहीं इस बार 2020 में आंकड़ा बढ़कर 63 फीसद पर पहुंच गया है।

आम आदमी पार्टी के कई विधायक हैं करोड़पति

सबसे ज्यादा विधायक बनने वाले भले ही आम आदमी पार्टी (आप) से हों लेकिन असल में उनकी संपत्ति चौंकाने वाली है। विधायक बन चुके आम आदमी पार्टी के 62 विधायकों में 73 फीसद यानी 45 विधायक करोड़पति हैं। 2015 के विधानसभा चुनाव में 70 विधायकों में 63 फीसद यानी 44 विधायक ही करोड़पति की सूची में शामिल थे। भाजपा में देखें तो उनके 8 में से 7 विधायक यानी 88 फीसद विधायकों ने अपनी संपत्ति एक करोड़ रुपये से अधिक बताई है। जानकारी के बाकी पेज 8 पर मुताबिक, 36 फीसद विधायकों की संपत्ति पांच करोड़ रुपये से अधिक है। 18 फीसद विधायक ऐसे हैं जिनकी संपत्ति दो करोड़ से पांच करोड़ रुपये के बीच है। 29 फीसद विधायकों की कुल संपत्ति 50 लाख से दो करोड़ रुपये के बीच है। 16 फीसद विधायक ऐसे हैं जिनके पास 10 लाख से 50 लाख रुपये की संपत्ति है। एक फीसद विधायकों के पास दस लाख रुपये से कम संपत्ति की घोषणा की गयी है।

सबसे ज्यादा संपत्ति मुंडका से आम आदमी पार्टी विधायक धरमपाल लाकड़ की है। कुल संपत्ति 292 करोड़ रुपये बताई गई है। दूसरे नंबर पर आम आदमी पार्टी की ही आरकेपुरम से विधायक प्रमिला टोकस हैं जिनके पास कुल 80 करोड़ रुपये की संपत्ति है। तीसरे नंबर पर पटेल नगर से ‘आप’ विधायक राजकुमार आनंद हैं जिनकी कुल 78 करोड़ रुपये की संपत्ति है। वहीं, सबसे कम संपत्ति में भी आप के तीन विधायक शामिल हैं। इसमें मंगोलपुरी से विधायक राखी विडलान जिनके पास कुल 76 हजार रुपये, बुराड़ी से विधायक संजीव झा के पास 10 लाख रुपये और सदर बाजार से विधायक सोम दत्त के पास 11 लाख रुपये की संपत्ति दिखाई गयी है।


कितने पढ़े लिखे हैं दिल्ली के विधायक

कुल विधायकों में 23 विधायक यानी 33 फीसद आठ से 12वीं पास हैं। 42 विधायक यानी 60 फीसद स्नातक और उससे अधिक पढ़े हैं। पांच विधायक डिप्लोमा धारक हैं। 39 विधायक 25 से 50 साल के बीच हैं। 31 विधायकों की उम्र 51 से 80 साल के बीच है। 2015 में जहां 70 में सिर्फ 6 महिला विधायक चुनी गर्इं थीं वहीं इस बार यह आंकड़ा सिर्फ दो अंक बढ़ गया है यानी आठ हो गया है।

No comments:

Post a comment